fbpx
Friday, July 23, 2021
Homespritual talksकल्कि अवतार से जुड़ी 5 बातें जो आपको चौंका देगी

कल्कि अवतार से जुड़ी 5 बातें जो आपको चौंका देगी

हिंदू धर्म में, भगवान विष्णु भगवान के ब्रह्मा, विष्णु और महेश्वर की विजय में से एक हैं। भगवान ब्रह्मा के इन तीनों त्रिदेवों में से एक ब्रह्मांड के निर्माता माना जाता है, भगवान महेश्वर, अर्थात् भगवान शिव विध्वंसक के लिए जाने जाते हैं और भगवान विष्णु पूरे ब्रह्मांड के संरक्षक या रक्षक माने जाते हैं।

हिंदुओं के अनुसार, यह कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने कई बार एक इंसान के रूप में पृथ्वी पर आकर अच्छे और बुरे के बीच संतुलन बनाए रखने के लिए किया। ऐसा कहा जाता है कि भगवान विष्णु लगभग पच्चीस बार पृथ्वी पर अवतरित हो चुके हैं और भगवान कल्कि भगवान विष्णु के अंतिम अवतार होंगे।

हिंदुओं ने भगवान विष्णु की तस्वीर को कॉसमॉस ओशन में एक बड़े साँप के बिस्तर पर लेटे हुए के रूप में दर्शाया, जहाँ वह लक्ष्मी के साथ गहरी ध्यान निद्रा में हैं जो भगवान विष्णु को अपनी सेवा दे रही हैं।

इसके अलावा भगवान विष्णु के चित्र में, यह देखा जाता है कि भगवान विष्णु के पेट से एक कमल खिल गया और भगवान ब्रह्मा को जन्म दिया। चित्र में, यह भी देखा जाता है कि भगवान ब्रह्मा ने जो संसार बनाया है, वह भगवान विष्णु को सम्मान दे रहा है।

लेकिन भगवान विष्णु के कल्कि अवतार की उपस्थिति को ब्रह्मांड का भगवान माना जाता है और हिंदू धर्म में, भगवान कल्कि की तस्वीर को चित्रित किया गया है क्योंकि भगवान अपने घोड़े देवदत्त पर अपने हाथ में तलवार के साथ सवार हैं। भगवान कल्कि का यह स्वरूप श्रीमद्भागवतम् में मिलता है।

इस लेख में, हम भगवान विष्णु के कल्कि अवतार के बारे में कुछ दिलचस्प तथ्यों के साथ आएंगे जो शायद ही लोगों को पता हो।

भगवान विष्णु के कल्कि अवतार का रूप

श्रीमद्भागवत में कहा गया है कि कलयुग के अंत में भगवान विष्णु का अवतार पृथ्वी पर आएगा। हिंदू धर्म में, यह माना जाता है कि चार युग हैं जैसे सत्य युग, त्रेता युग, द्वापर युग, और कलियुग। ये चार चक्र हमारे कैलेंडर महीनों की तरह ही घूमते हैं।

कहा जाता है कि वर्तमान युग कलयुग है और यह 4,32,000 वर्षों तक चलेगा। यह माना जाता है कि कुरुक्षेत्र की लड़ाई से हम 5000 साल पहले ही पार कर चुके हैं। इसका मतलब है कि अभी भी 4,27,000 वर्ष बाकी हैं और श्रीमद्भागवत गीता के अनुसार भगवान कल्कि कलियुग के अंत में आएंगे।

ऐसा माना जाता है कि भगवान कल्कि के पिता विष्णु यश और उनकी माता सुमति होंगी जो कि एक बहुत ही बड़े विद्वान ब्राह्मण भी होंगे । श्रीमद्भागवतम् में कहा गया है कि भगवान कल्कि विष्णु यश के घर में प्रकट होंगे।और बहुत से लोगों को लगता है कि भगवान विष्णु का जन्म यूपी के एक शहर संभल में होगा लेकिन वह सब गलत है उनका असलियत में जन्म संभाला के एक ऐसे दिव्य नगर में होगा जो कि सामान्य मनुष्य की नजरों से विलुप्त है|

कलयुग में भगवान विष्णु को भगवान कल्कि के रूप में प्रकट होने का कारण

वैदिक सभ्यता के अनुसार, यह कहा जाता है कि भगवान विष्णु एक बार संत भृगु द्वारा शापित थे। असुरों ने एक बार महर्षि भृगु के आश्रम में शरण ली थी। एक दिन जब सुकराचार्य और महर्षि भृगु आश्रम में थे और तब देवराज इंद्र ने छल पूर्वक असुरों पर आक्रमण कर दिया उसने देखा कि यह बहुत सही मौका है तो उन्होंने पीठ पीछे असुरों को काटना चालू कर दिया।

असुरों ने भागकर ऋषि भृगु की पत्नी की शरण ली, जिसका नाम कविमाता था। उस समय के दौरान, कविमाता ने अपनी योगिक शक्तियों की मदद से इंद्र को डुबो दिया और और इसी प्रकार कवीमाता ने असुरों की रक्षा की

अन्य देवता तुरंत इंद्र की मदद के लिए भगवान विष्णु के पास गए उसके पश्चात भगवान विष्णु ने इंद्र और अन्य देवताओं को बचाने हेतु अपने सुदर्शन चक्र का आवाहन किया और काव्यमाता का सिर धड़ से अलग कर दिया।

जब ऋषि भृगु वापस लौटे और अपनी पत्नी की विनाशकारी स्थिति को देखा तो वे भगवान विष्णु पर बहुत क्रोधित हो गए और उन्हें श्राप दिया कि वह कई बार पृथ्वी पर जन्म लेंगे औरअपने करीबी प्रियजनों की मृत्यु का दर्द सहेंगे।

महर्षि भृगु के इस श्राप के कारण भगवान विष्णु को बार-बार पृथ्वी पर प्रकट होना पड़ा और जब भी वे पृथ्वी पर आते हैं तो पृथ्वी पर मौजूद बुराई का नाश करते हैं। अब यह तो जाहिर सी बात है कि कलयुग के अंत में भगवान विष्णु कल्कि के रूप में आखिरी बार प्रकट होंगे जब पृथ्वी पर बुराई अपनी चरम सीमा पर होगी तब काली करतूतों और कली पुरुष का नाश करके वापस सतयुग की स्थापना करेंगे।

भगवान कल्कि पर नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी:

नास्त्रेदमस एक महान ज्योतिषी थे और उन्होंने जो भी भविष्यवाणी की थी वह हमेशा सच ही हुई है। उनकी भविष्यवाणी के अनुसार, यह पाया गया कि एक व्यक्ति दुनिया में असीम शक्ति धारण करेगा जिसका पवित्र दिन गुरुवार होगा और वह तीनो लोको और पर पूरी दुनिया में शासन करेगा।

वह एकमात्र व्यक्ति होगा जो दुनिया को सभी परेशानी से मुक्त करेगा। नास्त्रेदमस के अनुसार यह महान व्यक्ति अपने सिंहासन से नीचे आएगा और अपनी छड़ी से बुरे लोगों पर प्रहार करने के लिए समुद्र और हवा के माध्यम से आगे बढ़ेगा।

श्रीमद्भागवतम् के अनुसार, भगवान कल्कि ने नास्त्रेदमस ने जो भविष्यवाणी की थी, उसके बारे में कई समानताएं हैं। हिंदू धर्म में यह माना जाता है कि जब भगवान कल्कि प्रकट होंगे तो वे अपने शत्रुओं को अपने हथियार से नष्ट कर देंगे। और भी घोड़े पर सवार होंगे इसका भी वर्णन नास्त्रेदमस ने अपनी भविष्यवाणी में किया है|

भगवान कल्कि का मिशन

ऐसा कहा जाता है कि भगवान कल्कि का पृथ्वी पर प्रकट होने का मुख्य उद्देश्य कली पुरुष को नष्ट करना होगा जो एक बुरे व्यक्तित्व को दर्शाता है। इसमें 7 चिरंजीवी भगवान कल्कि के इस युद्ध मैं उनके सारथी बनेंगे भगवान कल्कि का मुख्य उद्देश्य बुरी सोच के लोगों और चोरों को नष्ट करना और पृथ्वी को रहने के लिए शांतिपूर्ण स्थान बनाने का होगा और कलयुग के अंत के बाद भगवान कल्कि वापस सतयुग की स्थापना करेंगे |

इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि भगवान कल्कि ने राजा कली को पराजित किया और कलयुग के धार्मिक राजा देव पति और मारू को शासन देंगे।

भगवान कल्कि की कुछ रहस्यमई बातें

ऐसा माना जाता है कि बैसाख माह के दौरान भगवान कल्कि धरती पर अवतरित होंगे। आम तौर पर कुछ ग्रंथों में ऐसा बताया गया है कि भगवान कल्कि पूर्णिमा के 12 दिन पृथ्वी पर लेकिन जैसा मैंने आपको बताया कि उनका जन्म संग्रीला अर्थात संभाला गांव के एक दिव्य शहर में होगा जो कि बाहरी दुनिया के समझ से परे है। 26 अप्रैल से 15 मई तक किसी भी समय भगवान कल्कि दिखाई दे सकते हैं।

परंतु वे उन लोगों को दिखेंगे जो भगवान पर अटूट विश्वास रखते हो जिसका मन साफ हो और जो भगवान विष्णु के स्वरूप को समझ सके , भगवान का दर्शन देना मनुष्य जीवन में बहुत सौभाग्य की बात होती है। उसी प्रकार जिन लोगों को भगवान दिखेंगे वह बहुत ही भाग्यशाली और किस्मत वाले होंगे जिन्होंने अपने पूर्व जन्म में कहीं अनेक प्रकार के पुण्य कर्म करें होंगे|

एक ऐसी भी कथा सुनने में आती है भगवान कल्कि के बारे में कि भगवान कल्कि का विवाह वैष्णवी नामक एक कन्या के साथ होगा जिसे हम सब लोग मां वैष्णो देवी के नाम से जानते हैं हां वही वैष्णो देवी जो सब भक्तों के दुख हर लेती है।

इसकी कथा कुछ इस प्रकार है कि वैष्णवी त्रेता युग में भगवान राम को पाने की तपस्या करती है तब भगवान राम उन्हें दर्शन देते हैं और यह कहते हैं कि कलयुग में मेरा कल्कि अवतार होगा तब मैं तुम्हारे साथ विवाह करूंगा। तब तक तुम इन पहाड़ियों की गुफाओं में सभी भक्तों के कष्ट हरोगी और संसार तुम्हें वैष्णो देवी के नाम से जानेगा| भगवान श्रीराम ने उनकी रक्षा के लिए हनुमान जी को नियुक्त किया। तब से आज तक मां वैष्णो देवी भगवान विष्णु के अवतार के लिए गुफा में तप और प्रतीक्षा कर रही है|

इसी प्रकार भगवान कल्कि अवतार के कुछ ज्ञान के तथ्य है| विश्वास मुद्गल द्वारा अंतिम अवतार कल्कि अवतार अवतार के बारे में एक ऐसी लोकप्रिय पुस्तक है जिसमें भगवान कल्कि के बारे में बहुत सी कहानियां वर्णित है कि किस प्रकार भगवान कल्कि इस दुनिया को बचाएंगे।

ग्रंथों के अनुसार भगवान हनुमान और परशुराम जी उनके गुरु के रूप में माने जाएंगे उनकी लड़ाई में वह उनका प्रशिक्षण करेंगे।

यहां पर दफन है कर्ण के कवच और कुंडल

manav24http://maanblogs.in
Bringing you stories That Reveal And Inspire, the challenging expectation I Manav Tandon Writer and YouTuber by passion from Udaipur Rajasthan. This space is especially to share my love for adventures and our culture’s divine tales. Guys lastly my life always sent me off to rehab
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments